Weather Updates: भीषण गर्मी से हाल बेहाल, मौसम विभाग ने बताया कब मिलेगी राहत

नई दिल्ली: दिल्ली, राजस्थान, हरियाणा, पंजाब और उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में पिछले कुछ दिन से जबरदस्त गर्मी है. कहीं-कहीं तो तापमान 45 डिग्री सेल्सियस के ऊपर तक जा रहा है. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने रविवार को उत्तर भारत के लिहाज से 25-26 मई के लिए रेड अलर्ट जारी किया है जहां लू का प्रकोप अपने चरम पर हो सकता है. राजस्थान के चुरू में सोमवार को अधिकतम तापमान 47.5 सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया.

राजधानी दिल्ली भी भीषण गर्मी की चपेट में है. एनसीआर के कई हिस्सों में अधिकतम तापमान 46 डिग्री सेल्सियम को छू गया. उत्तर प्रदेश में इलाहाबाद सोमवार को सबसे ज्यादा गर्म रहा. यहां पर अधिकतम तापमान 46.3 रिकॉर्ड किया गया. आईएमडी ने सोमवार को कहा कि उत्तर भारत के अनेक हिस्सों में 29-30 मई को धूल भरी आंधी चलने और गरज के साथ छींटे पड़ने की संभावना है जिससे लू के प्रकोप से राहत मिल सकती है. 

आईएमडी के क्षेत्रीय मौसम विज्ञान विभाग के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने कहा कि पश्चिमी विक्षोभ और पुरवाई हवाओं के कारण दिल्ली, हरियाणा और उत्तर प्रदेश में 29-30 मई को धूल भरी आंधी चलने तथा गरज के साथ छींटे पड़ने की संभावना है. श्रीवास्तव ने कहा कि इस अवधि में हवा की रफ्तार करीब 50-60 किलोमीटर प्रति घंटे हो सकती है जिससे भीषण गर्मी से राहत मिलेगी. पश्चिमी विक्षोभ एक चक्रवाती तूफान है जो भूमध्यसागर से पैदा होकर मध्य एशिया में से गुजरता है. हिमालय के संपर्क में आने पर इससे पहाड़ों और मैदानों पर बारिश होती है. 

आईएमडी ने कहा कि हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, राजस्थान, पूर्वी मध्य प्रदेश और विदर्भ में कुछ हिस्सों में लू चल सकती है वहीं कुछ स्थानों पर प्रचंड लू के थपेड़े महसूस किए जा सकते हैं. अगले दो-तीन दिन में पंजाब, छत्तीसगढ़, ओडिशा, गुजरात, मध्य महाराष्ट्र, मराठवाड़ा, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, बिहार और झारखंड में कुछ-कुछ स्थानों पर लू चलने की संभावना है. 

आईएमडी ने अपने दैनिक बुलेटिन में कहा, “उत्तर पश्चिम भारत, मध्य भारत के मैदानी भागों और इससे लगे पूर्वी भारत के आंतरिक हिस्सों में शुष्क उत्तर-पश्चिमी हवाएं चलने से 28 मई तक इन क्षेत्रों में लू चलने की संभावना है जो 25 और 26 मई को अपने प्रचंड रूप में रह सकती है.” 

(इनपुट: भाषा से)

ये भी देखें:

 

[source_ZEE NEWS]
%d bloggers like this: