Lunar Eclipse 2020: चंद्र ग्रहण का इन राशियों पर पड़ सकता है बुरा असर, रिश्तों में आ सकती है खटास

नई दिल्ली: 5 जून यानी कल चंद्र ग्रहण (Chandra Grahan 2020) लगने जा रहा है. जिसकी अवधि 3 घंटे 18 मिनट की होगी. यह साल 2020 का दूसरा चंद्र ग्रहण (Lunar Eclipse June 2020) है. इससे पहले 10 जनवरी को चंद्र ग्रहण लगा था. 5 जून को लगने वाला ग्रहण उपच्छाया चंद्र ग्रहण होगा. जिसका मतलब है कि चंद्रमा पर मात्र एक धुंधली सी छाया पड़ेगी. जानें क्या होगा आपकी राशि पर असर, इन राशि के जातकों को रहना होगा सावधान…

मेष- परिवार के सदस्यों की सेहत पर ध्यान दें. मन में कई तरह के तनाव आ सकते हैं लेकिन आपको वाद-विवाद से दूर रहना है. ग्रहण काल में मंत्र का जाप कर अपने राशि के स्वामी मंगल को प्रबल करें. ग्रहण काल खत्म होने के बाद किसी गरीब व्यक्ति को गुड़ और चावल का दान करें.

वृषभ- इस ग्रहण का असर आपके रिश्तों पर पड़ेगा और आपका कोई संबंध अचानक खत्म हो सकता है. किसी के साथ व्यापार में साझेदारी खत्म हो सकती है पत्नी के सेहत का विशेष ध्यान रखें. ग्रहणकाल में शुक्र के मंत्रों का जाप करें. ग्रहणकाल के बाद किसी गरीब व्यक्ति को दूध का दान करें.

ये भी पढ़ें- Chandra Grahan 2020: चंद्र ग्रहण के दौरान बरतें ये सावधानियां, भूल से भी ना करें ये काम

मिथुन- किसी महिला से इस कदर अनबन हो सकती है कि मानसिक तनाव से गुजर सकते हैं. महिलाओं को भी अपनी सेहत पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है. कर्ज का कोई मामला परेशान कर सकता है. बुध के मंत्रों का जाप करें. ग्रहणकाल खत्म होने पर किसी निर्धन को मीठी खीर दान में दें.

कर्क- रिश्ते, शिक्षा और संतान इन तीनों में आपको सावधान रहने की जरूरत है. गर्भवती महिलाओं को अपना खास ख्याल रखने की जरूरत है. रिश्तों में गलतफहमी से बच कर रहने की जरूरत होगी. आपके लिए गायत्री मंत्र बहुत लाभकारी रहेगा. ग्रहण के 15 दिन के आस-पास अपनी माता को चांदी का ग्लास दें.

सिंह- इस ग्रहणकाल के दौरान आपकी माता को तनाव हो सकता है, उनकी सेहत पर ध्यान दें. घर में तनाव हो सकता है लेकिन आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है. ग्रहणकाल में सूर्य और चंद्रमा के मंत्रों का जाप करना है. ग्रहण के बाद गुड़ और चीनी दोनों का दान करें.

कन्या- इस दौरान आत्मविश्वास में कमी आएगी और आपकी किसी के साथ दोस्ती खत्म हो सकती है. पार्टनशिप में लाभ की स्थिति भी बिगड़ सकती है. घर में बड़े और छोटे दोनों के सेहत का ध्यान रखें. ग्रहणकाल में बुध के मंत्रों का जाप करें. ग्रहण खत्म होने के बाद किसी गरीब व्यक्ति को हरी सब्जी का दान करें.

तुला- इस ग्रहणकाल के दौरान आपको अपनी वाणी पर बहुत ध्यान देना पड़ेगा. बोलने से पहले सोचें. मुंह, दांत और आंखों से जुड़ी कोई समस्या हो सकती है. तनाव भी बढ़ सकता है. ग्रहणकाल में शुक्र के मंत्रों का जाप करें. ग्रहणकाल खत्म होने के बाद किसी निर्धन व्यक्ति को घी का दान करें.

वृश्चिक- चंद्र ग्रहण आपकी ही राशि में पड़ रहा है. इसकी वजह से मानसिक तनाव हो सकता है. इस दौरान आपका आध्यात्म की तरफ झुकाव होगा और आपको इससे काफी मदद मिलेगी. गायत्री मंत्र का जाप करें. ग्रहणकाल खत्म होने के बाद एक तांबे के लोटे में दूध भरकर शिव मंदिर के सामने रख आएं.                                                   

धनु- इस दौरान आपके निर्णय लेने की क्षमता बहुत खराब हो सकती है. मन में किसी भी तरह का नकारात्मक विचार ना लाएं. आपका झुकाव आध्यात्म की तरफ होगा. आपको बृहस्पति मंत्र का जाप करने की जरूरत है. किसी निर्धन व्यक्ति को एक पैकेट हल्दी का दान करें.

मकर- जीवनसाथी से तकरार और सहयोग में कमी आ सकती है. एक रिश्ते पर ध्यान देने की बजाय सारे रिश्तों को प्राथमिकता दें. शनि के मंत्रों का जाप करें. ग्रहण खत्म होने पर एक पैकेट दूध और सरसों का तेल गरीब व्यक्ति को दान करें.

कुंभ- पिता के सेहत को लेकर सावधान रहने की जरूरत है. अपनी सेहत पर भी ध्यान दें. शनि के मंत्रों का जाप करें. ग्रहणकाल खत्म होने के बाद सरसों के तेल या पांच सफेद मिठाई का दान करें.

मीन- इस राशि वालों को ग्रहण के दौरान भाग्य का बिल्कुल साथ नहीं मिलेगा. कड़ी मेहनत के बाद भी सफलता नहीं मिलेगी. दुर्घटना होने की संभावना है. संतान की सेहत का खास ख्याल रखें. गेंहू का दान करने से फायदा होगा.

मदन गुप्ता सपाटू

[source_ZEE NEWS]
%d bloggers like this: