Advertisements

DNA ANALYSIS: ZEE NEWS के कोरोना योद्धाओं ने फेक न्यूज फैलाने वालों को दिया करारा जवाब

नई दिल्ली: जब से ZEE NEWS के हमारे कुछ साथी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं, तब से खास सोच वाले कुछ लोग जश्न मना रहे हैं, हमारे खिलाफ फेक न्यूज, फेक वीडियोज फैला रहे हैं, सोशल मीडिया पर हमारे खिलाफ दुष्प्रचार कर रहे हैं. सोचिए ये कैसे लोग होंगे, जो किसी के कोरोना संक्रमित होने पर खुश हो रहे हैं, और इसमें अपनी दुश्मनी निकालने का मौका देख रहे हैं.

ऐसे लोगों में बड़े बड़े बुद्धिजीवी, डिजायनर पत्रकार और टुकड़े टुकड़े गैंग के वो सदस्य हैं, जिनकी आंखों में हमेशा ZEE NEWS चुभता रहा है. लेकिन हमने भी तय किया है कि ऐसे लोगों के प्रोपेगेंडा का जवाब हम अपनी पॉजिटिविटी से देंगे. मंगलवार को हमने आपको उन Zee Warriors से मिलवाया था, जो कोरोना वायरस से संघर्ष कर रहे हैं, लेकिन इनके जज्बे में कोई कमी नहीं है. 

कोई भी दुष्प्रचार इनकी हिम्मत को तोड़ नहीं सकता, क्योंकि ZEE NEWS का पूरा परिवार इनके साथ मजबूती से खड़ा है. इन Zee Warriors की हिम्मत और हौसले को पूरे देश ने सलाम किया था. आज हम अपने ऐसे ही कई और साथियों का आपसे परिचय करवाते हैं, जिन्होंने कोरोना से लड़ाई के बीच अस्पताल से ही अपने संदेश भेजे हैं. 

हम आपको उन सब युवा साथियों से मिलवाते हैं, जिन्होंने अभी पत्रकारिता का सफर शुरू ही किया है. इनमें 26 वर्ष के शिवेंद्र प्रताप सिंह हैं, जो ZEE NEWS के Assignment Desk में काम करते हैं, और अभी ट्रेनी हैं. दूसरा नाम गौरव रावत का है, जो 23 वर्ष के हैं और ZEE NEWS में वीडियो एडिटर हैं. ये दोनों युवा साथी कोरोना से संघर्ष कर रहे हैं. इनकी उम्र भले ही कम है, लेकिन इन दोनों का हौसला बहुत बड़ा है. 

अब आपको ZEE NEWS के हमारे उन दो साथियों से मिलवाते हैं, जो हमारे यहां ग्राफिक्स टीम के सदस्य हैं. इनका नाम है-भुवनेश निझावन और महेंद्र सिंह. भुवनेश के परिवार में उनके 72 वर्ष के पिता है, जो हार्ट पेशेंट भी हैं, इसके अलावा उनकी पत्नी, 14 वर्ष का बेटा और 5 वर्ष की बेटी है. हमारे दूसरे साथी महेंद्र सिंह के परिवार में उनके माता-पिता, पत्नी और एक बेटा है. इन जिम्मेदारियों के बीच ये Zee Warriors कोरोना वायरस से भी लड़ रहे हैं. इनका संदेश भी आप सुनें.

आप सोचिए इन्हीं लोगों के हौसले और हिम्मत को तोड़ने की कुछ लोग कोशिश कर रहे हैं, लेकिन आज जो भी इन Zee Warriors को देख-सुन रहा होगा, इनकी पॉजिटिविटी सभी को प्रेरणा दे रही है और ZEE NEWS के खिलाफ चल रहे प्रोपेगेंडा को चूर-चूर कर रही है. हम आपको अपने दो और साथी पत्रकारों से मिलवाते हैं, जो कोरोना पॉजिटिव हैं. इनमें एक का नाम है धनजीव कुमार, जो ZEE NEWS पर सुबह आप तक खबरें पहुंचाते हैं. धनजीव के परिवार में उनकी पत्नी और साढ़े तीन वर्ष का बेटा है. हमारे दूसरे साथी का नाम नितेश राय है, जो नाइट शिफ्ट में काम करते हैं, और सुबह के न्यूज शो के लिए खबरें तैयार करते हैं. नितेश के पिता भारतीय नौ सेना से रिटायर्ड हैं. नितेश भी किसी सैनिक की तरह कोरोना से लड़ाई लड़ रहे हैं. धनजीव और नितेश के भी संदेश भी आप सुनें. 

देखें DNA- 

हमारी टीम के दो और सदस्य हैं- प्रवीण श्रीवास्तव और संदीप श्रीवास्तव. प्रवीण मॉर्निंग शिफ्ट में आप तक खबरें पहुंचाते हैं. उनके परिवार में उनकी पत्नी और 15 महीने की उनकी बेटी है. संदीप श्रीवास्तव हमारे यहां Assignment Desk में काम करते हैं, उनका परिवार उत्तर प्रदेश के बस्ती में रहता है. परिवार में माता-पिता, पत्नी और 4 महीने का बेटा है. लेकिन परिवार से दूर होने के बावजूद संदीप इस मुश्किल वक्त में पूरी पॉजिटिविटी के साथ इस लड़ाई को लड़ रहे हैं. इन दोनों साथियों के संदेश भी हम आपको सुनाते हैं. 

हमारे लिए आज एक अच्छी खबर आई है. हमारे जितने भी Zee Warriors नोएडा के अस्पताल में भर्ती हैं, और कोरोना से अपनी लड़ाई लड़ रहे हैं, उन सभी के परिवार के सदस्यों की रिपोर्ट निगेटिव आई है. यानी इनके परिवार के सदस्यों में किसी को कोरोना संक्रमण नहीं है. आज जब खबर उस कोविड वार्ड में पहुंची, जहां हमारे साथी हैं, तो उनकी प्रतिक्रिया क्या थी, वो आपको ज़रूर देखना चाहिए. 

जिस टीम में ऐसी पॉजिटिविटी हो तो उसके सामने कोई भी दुष्प्रचार टिक नहीं सकता. पूरा Zee परिवार इस वक्त एकजुट है और हमारे मनोबल को कोई तोड़ नहीं सकता. Zee Warriors के हिम्मत और हौसले पर समर्थन देने के लिए युवा राजनैतिक विश्लेषक शहज़ाद पूनावाला ने एक कविता हमें भेजी है. शहजाद को आपने कई न्यूज चैनलों पर डिबेट में हिस्सा लेते हुए देखा होगा. आज हम शहजाद पूनावाला की ये कविता आपके साथ शेयर करना चाहते हैं. 

[source_ZEE NEWS]