DNA ANALYSIS: हॉकी के ‘गोल्ड’ बलवीर सिंह सीनियर का यादगार इंटरव्यू

नई दिल्ली: दो साल पहले एक फिल्म आई थी Gold. इस फिल्म में 1948 के उस ओलंपिक गोल्ड मेडल को जीतने की कहानी थी, जिसे पहली बार भारतीय हॉकी टीम ने भारत के झंडे के नीचे जीता था. ये आजाद भारत के लिए गर्व करने वाला सबसे बड़ा दिन था, क्योंकि तब भारत को आजाद हुए एक वर्ष ही हुआ था, और भारतीय टीम ने ओलंपिक में उस ब्रिटेन को उसी की धरती पर हराकर हॉकी का गोल्ड मेडल जीत लिया था, जिस ब्रिटेन ने भारत पर 200 वर्ष राज किया था और जिसके झंडे के नीचे भारतीय टीम आजादी से पहले खेलती थी. ये कहानी हमने आपको इसलिए बताई है कि क्योंकि भारत ने अपना एक सच्चा हीरो खो दिया है, जो 1948 में ओलंपिक गोल्ड मेडल जीतने वाली इसी भारतीय हॉकी टीम के सदस्य थे.

भारतीय हॉकी के महान खिलाड़ी बलबीर सिंह सीनियर का नाम आपने सुना ही होगा. उन्हें आज़ादी के बाद के भारत का ध्यानचंद भी कहा जाता था. सोमवार को बलबीर सिंह सीनियर का 96 वर्ष की आयु में चंडीगढ़ में निधन हो गया. वो पिछले कई महीने से बीमार चल रहे थे. 

देखें DNA- 

बलबीर सिंह आजादी के बाद लगातार तीन बार ओलंपिक गोल्ड मेडल जीतने वाली भारतीय टीम के सदस्य थे. इनमें 1948 के लंदन ओलंपिक्स, 1952 का हेलसिंकी ओलपिक्स और 1956 का मेलबर्न ओलंपिक्स शामिल है. मेलबर्न में उन्हीं की कप्तानी में भारतीय टीम ने गोल्ड मेडल जीता था. भारत ने 1975 में पहली और आखिरी बार जब हॉकी वर्ल्ड कप जीता था, तो उस टीम के मुख्य कोच और मैनेजर भी बलबीर सिंह ही थे. 

बलबीर सिंह को भारतीय हॉकी में गोल मशीन के नाम से भी जाना जाता था. उनके नाम ओलंपिक में सबसे ज्यादा गोल करने का रिकॉर्ड है, जिसे अब तक कोई तोड़ नहीं पाया. 1952 के ओलंपिक गेम्स में हॉकी के गोल्ड मेडल मैच में भारत ने नीदरलैंड्स को 6-1 से हराया था, उसमें पांच गोल अकेले बलबीर सिंह ने ही किए थे. 

International Olympics Committee ने आधुनिक ओलंपिक्स के इतिहास के जिन 16 दिग्गजों की लिस्ट दी थी, उस लिस्ट में एक नाम भारत से बलबीर सिंह का भी था. शायद आपको ये पता नहीं होगा कि भारत में खेलों की दुनिया में जो पहला पद्म श्री पुरस्कार दिया गया था, वो बलबीर सिंह को ही 1957 में मिला था.  लेकिन बलबीर सिंह के लिए सबसे यादगार क्षण 1948 का लंदन ओलंपिक्स का था, जब भारतीय टीम ने ब्रिटेन को चार-शून्य से हरा कर गोल्ड मेडल जीता था. इस मैच में पहले दो गोल बलबीर सिंह ने ही किए थे. 

दो साल पहले जब इसी जीत पर आधारित फिल्म गोल्ड आई थी, तब ZEE NEWS ने उस फिल्म के हीरो अक्षय कुमार के साथ साथ बलबीर सिंह का भी इंटरव्यू किया था. जब पूरा देश इस महान खिलाड़ी को याद कर रहा है, तो ये इंटरव्यू आपको जरूर देखना चाहिए. 

[source_ZEE NEWS]
%d bloggers like this: