CBSE 12th Exam 2020 को लेकर आई बड़ी खबर, जहां है वहीं से देंगे परीक्षा, जानिए होम टाउन Exam देने के लिए क्या करें

Highlights

-CBSE 12th Examination 2020 सीबीएसई ने 12वीं के परीक्षार्थियों के लिए राहत भरी खबर दी है

-लॉकडाउन के कारण वे जहां हैं वहीं अपनी परीक्षा दे सकेंगे। जुलाई तक रिजल्ट भी आ जाएगा

-रमेश पोखरियाल निशंक ट्विटर अकाउंट के जरिए ये संदेश जारी किया है

 

नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus Outbreak) के तलते हुए लॉकडाउन (Lockdown 4.0 ) के बीच मानव संसाधन विकास (HRD) (Human Resource Development (HRD) Minister ) मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक (Ramesh Pokhriyal Nishank) ने बड़ी घोषणा की है। इस घोषणा के अंतर्गत बच्चे अपने गृह जिलों या अन्य प्रदेश में चले गये हैं, उन्हें अधिक परेशान होने की जरूरत नहीं है क्योंकि सीबीएसई (CBSE Board Exam 2020) उनकी 10वीं और 12वीं की परीक्षा उन्हीं जिलों में करवाने का प्रयास कर रही है। रमेश पोखरियाल निशंक ट्विटर अकाउंट के जरिए ये संदेश जारी किया है। उन्होंने ट्विटर पर लिखा है कि, “Covid_19 संकट के कारण हजारों बच्चे अपने गृह प्रदेश में चले गए थे, ऐसी स्थिति में सीबीएसई की बोर्ड परीक्षाओं में शामिल हो रहे विद्यार्थियों की समस्या को ध्यान में रखते हुए CBSE ने यह फैसला लिया है कि ऐसे विद्यार्थी अपनी बोर्ड परीक्षा अपने गृह जिले में ही दे सकते हैं।”

अभिभावकों के सामने आ रही थी समस्याएं

HRD मंत्री निशंक ने बताया कि सीबीएसई बोर्ड एग्जाम को लेकर छात्रों और अभिभावकों के कई समस्याएं सामने आ रही थीं। इनमें पहली समस्या एग्जाम सेंटर की थी, जो काफी दूर हैं। सीबीएसई द्वारा छात्रों को अपने स्कूलों में ही परीक्षा देने का अवसर दिया गया है। पहले सिर्फ 3000 परीक्षा केंद्र चिन्हित किए गए थे लेकिन अब लगभग 15000 परीक्षा केंद्रों पर परीक्षा होनी है।

जिस जनपद में हैं वहीं से दें परीक्षा

दूसरी समस्या उन छात्रों की थी जो हजारों किलोमीटर की दूरी तय करके अपने गृह राज्य में चले गए हैं। सभी की समस्या को देखते हुए सीबीएसई बोर्ड ने यह फैसला किया है कि जो छात्र जिस जनपद में हैं वे वहीं परीक्षा दे सकते हैं।

जून के पहले सप्ताह में होगी शुरू

10वीं और 12वीं के सभी छात्रों को अपने स्कूल को यह सूचना देनी होगी कि आप किस जनपद में हैं। स्कूल को बताना होगा कि जहां हैं उसी जनपद में परीक्षा देना चाहते हैं, इसके बाद छात्रों को स्कूल से अपने जनपद में परीक्षा देने की अनुमति दी जाएगी। यह प्रक्रिया जून के पहले सप्ताह में शुरू होगी और तभी छात्रों पता चल जाएगा कि छात्र किस स्कूल में परीक्षा दे सकते हैं।

Source

%d bloggers like this: