Advertisements

लॉकडाउन 4.0 का पहला दिन: लुधियाना की सड़कों पर उमड़ा जनसैलाब, मुक्तसर में लोगों ने उड़ाईं धज्जियां

लुधियाना की सड़कों पर लोगों का हूजूम उमड़ा।
– फोटो : अमर उजाला

ख़बर सुनें

लॉकडाउन 4.0 के पहले दिन सोमवार की सुबह लुधियाना की सड़कों पर जनसैलाब उमड़ पड़ा। सामान्य दिनों की तरह लोग बाजारों में खरीददारी करते दिखे लेकिन किसी के चेहरे पर कोरोना का खौफ नहीं दिखा। यहां तक बाजारों में लोग मास्क पहने जरूर दिखे लेकिन सोशल डिस्टेंस की किसी ने परवाह नहीं की। देर शाम तक लोगों का बाजारों में जाने का सिलसिला जारी रहा। इस दौरान पुलिस की भी सख्ती नहीं दिखी। बाजारों के हालात देखकर ऐसा लगा कि अब कोरोना खत्म हो गया है।बाइक पर भी दो लोग सवार आमतौर पर देखे गएं। इन सभी को रोकने के लिए प्रशासन की तरफ से कोई सख्ती दिखाई नहीं दी। शहर के मुख्य चौराहों पर आम दिनों की तरह ट्रैफिक जाम भी देखने को मिला। कोरोना संक्रमण को लेकर आम लोगों की यह लापरवाही किसी भी समय भारी पड़ सकती है। 

यह भी पढ़ें- लॉकडाउन में काम न मिलने से परेशान मजदूर की पत्नी ने दी जान, पठानकोट में व्यक्ति ने लगाई फांसी

बाजारों में भीड़ लेकिन खरीददारी कम 
पंजाब व्यापार मंडल के प्रदेश महासचिव सुनील मेहरा ने बताया कि सोमवार को सरकार ने बाजार खोल दिए हैं। लोग भी बाजारों में आ रहे हैं। लेकिन दुकानों पर खरीददारी नहीं हो रही है। क्योंकि अब उधारी तो बिल्कुल बंद है, क्योंकि दुकानदार को खुद कैश पर माल लेना पड़ रहा है। इन दो माह के दौरान दुकानदारों के पास पैसा बचा नहीं है लेकिन बिजली के बिल, जीएसटी, प्रॉपर्टी टैक्स, सीवरेज पानी के बिल सब देने पड़ रहे हैं।

केंद्र सरकार ने जो भी आर्थिक पैकेज जारी किए हैं, उसका फायदा सिर्फ बड़े घरानों को मिलेगा। बैंक छोटे दुकानदारों को कुछ नहीं देंगी। पहले भी आरबीआई ने बैंकों को कुछ निर्देश दिए थे। किसी बैंक ने कोई राहत नहीं दी। इस पैकेज से भी कोई उम्मीद नहीं है।

पंजाब में कर्फ्यू खत्म हुआ है लेकिन लॉकडाउन अभी जारी है। शायद ये बात लोग भूल गए हैं। सोमवार को कर्फ्यू हटते ही कई दिनों बाद आम दिनों की तरह जिंदगी पटरी पर लौटती नजर आई। मगर इस दौरान सामाजिक दूरी के नियमों की धज्जियां उड़ीं। बेपरवाह लोग सड़कों पर भीड़ जमा किए नजर आए। 

मगर कोई पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी रोकने-टोकने वाला नहीं था। बैंकों के बाहर तो सामाजिक दूरी की खूब धज्जियां उड़ीं। गौरतलब है कि सरकार की ओर से कर्फ्यू हटाते ही शहर के सभी हिस्सों में लोगों ने सुबह ही दुकानें खोल दी। दिनभर बाजारों में खूब चहल-पहल दिखाई दी। सोमवार को उन चौक-चौराहों पर भी दुकानें खुली नजर आईं, जहां पिछले कई दिनों से सन्नाटा पसरा था। 

कोटकपूरा रोड, मलोट रोड, रेलवे रोड, मस्जिद चौक समेत अन्य मुख्य बाजार पहले की तरह लोगों की भीड़ से गुलजार दिखे। शहर के मस्जिद चौक स्थित पंजाब नेशनल बैंक, अबोहर रोड स्थित द ओरिएंटल बैंक समेत शहर के अन्य बैंकों के सामने लोगों की भीड़ भी नजर आई लेकिन सामाजिक दूरी का पालन नहीं किया गया। उधर, शहर के फाटक पार स्थित बाघला मार्केट व टिब्बी साहिब रोड स्थित कुछ जगहों पर सन्नाटा पसरा रहा। 

इसका कारण प्रशासन की ओर से मनियारी, बूट विक्रेता, कपड़ा व्यापारी समेत अन्य कई दुकानदारों को अभी तक छूट न देना है। जिससे इन लोगों की दुकानें बंद हैं। इन दुकानदारों ने प्रशासन पर एकतरफा नीति का आरोप लगाया और रोष व्यक्त किया। मनियारी, बूट विक्रेता व अन्य दुकानदारों ने भी प्रशासन से कुछ समय के लिए दुकानें खोलने की मंजूरी देने को कहा है, ताकि वे भी इस संकट की घड़ी में अपने कारोबार शुरू कर परिवार का गुजारा चला सकें। 

टिब्बी साहिब रोड स्थित बाघला मार्केट के दुकानदार रमनदीप कुमार तथा सुरिंदर कुमार समेत अन्य ने प्रशासन से उन्हें भी दुकानें खोलने के लिए कुछ समय की छूट देने की मांग की है। उन्होंने कहा कि प्रशासन उन्हें छूट देता है तो वे इसका नाजायज फायदा नहीं उठाएंगे और नियमों का पालन करते हुए काम करेंगे।

कर्फ्यू हटने के बाद शहर में सोमवार को दुकानें तो खुलीं पर दुकानदार ग्राहकों का इंतजार करते दिखे। आम दिनों में लोगों से खचाखच भरा रहना वाला धोबी बाजार भी सूना था। दो चार वाहन चालकों के अलावा पूरा दिन सन्नाटा छाया रहा। शहर के मुख्य धोबी बाजार में जूते की दुकान करने वाले राजीव ग्रोवर और घड़ी की दुकान वाले संजीव कुमार ने बताया कि कोरोना के कारण लगे कर्फ्यू के बाद उन्होंने दुकानें तो खोल लीं पर ग्राहक नहीं आ रहे हैं। उनकी दुकानें किराए पर हैं। अब चिंता सता रही कि वो आने वाले समय में किराया और काम करने वाले अपने कर्मचारियों को वेतन कैसे देंगे। 

सार

  • चौड़ा बाजार, किताब बाजार, गुड मंडी जैसे बाजारों में सामाजिक दूरी की उड़ी धज्जियां
  • दुकानदारों ने सैनिटाइज कर खोली दुकानें, खरीददारी करते दिखे लुधियाना के लोग

विस्तार

लॉकडाउन 4.0 के पहले दिन सोमवार की सुबह लुधियाना की सड़कों पर जनसैलाब उमड़ पड़ा। सामान्य दिनों की तरह लोग बाजारों में खरीददारी करते दिखे लेकिन किसी के चेहरे पर कोरोना का खौफ नहीं दिखा। यहां तक बाजारों में लोग मास्क पहने जरूर दिखे लेकिन सोशल डिस्टेंस की किसी ने परवाह नहीं की। देर शाम तक लोगों का बाजारों में जाने का सिलसिला जारी रहा। इस दौरान पुलिस की भी सख्ती नहीं दिखी। बाजारों के हालात देखकर ऐसा लगा कि अब कोरोना खत्म हो गया है।

बाइक पर भी दो लोग सवार आमतौर पर देखे गएं। इन सभी को रोकने के लिए प्रशासन की तरफ से कोई सख्ती दिखाई नहीं दी। शहर के मुख्य चौराहों पर आम दिनों की तरह ट्रैफिक जाम भी देखने को मिला। कोरोना संक्रमण को लेकर आम लोगों की यह लापरवाही किसी भी समय भारी पड़ सकती है। 

यह भी पढ़ें- लॉकडाउन में काम न मिलने से परेशान मजदूर की पत्नी ने दी जान, पठानकोट में व्यक्ति ने लगाई फांसी

बाजारों में भीड़ लेकिन खरीददारी कम 
पंजाब व्यापार मंडल के प्रदेश महासचिव सुनील मेहरा ने बताया कि सोमवार को सरकार ने बाजार खोल दिए हैं। लोग भी बाजारों में आ रहे हैं। लेकिन दुकानों पर खरीददारी नहीं हो रही है। क्योंकि अब उधारी तो बिल्कुल बंद है, क्योंकि दुकानदार को खुद कैश पर माल लेना पड़ रहा है। इन दो माह के दौरान दुकानदारों के पास पैसा बचा नहीं है लेकिन बिजली के बिल, जीएसटी, प्रॉपर्टी टैक्स, सीवरेज पानी के बिल सब देने पड़ रहे हैं।केंद्र सरकार ने जो भी आर्थिक पैकेज जारी किए हैं, उसका फायदा सिर्फ बड़े घरानों को मिलेगा। बैंक छोटे दुकानदारों को कुछ नहीं देंगी। पहले भी आरबीआई ने बैंकों को कुछ निर्देश दिए थे। किसी बैंक ने कोई राहत नहीं दी। इस पैकेज से भी कोई उम्मीद नहीं है।


आगे पढ़ें

मुक्तसर: कई जगह लगा जाम, सामाजिक दूरी की धज्जियां उड़ीं

Source AMAR UJALA