लॉकडाउन के बीच निजी स्कूलों के फीस मांगने के खिलाफ डीसी ऑफिस में धरना, iप्रदर्शनकारी नेता ने बाल मुंडवाए

  • सुबह 11 बजे से मिनी सचिवालय परिसर में धरने पर बैठे थे प्रकाश जैन उर्फ टीटू बानिया, दोपहर तक जारी रहा
  • 2019 में घर का सामान बेचकर लोकसभा चुनाव लड़ने के बाद चर्चा में आए थे प्रकाश जैन उर्फ टीटू बानिया

दैनिक भास्कर

Jun 03, 2020, 03:27 PM IST

लुधियाना. लुधियाना के स्थानीय मुद्दों को लेकर आए दिन चर्चा में रहने वाले नेता जय प्रकाश जैन उर्फ टीटू बानिया अब निजी स्कूलों के द्वारा फीस मांगे जाने के खिलाफ उतर आए हैं। बुधवार को टीटू ने डीसी ऑफिस में धरना दिया। इस दौरान टीटू ने लघु सचिवालय में अपने सिर का मुंडन करवाया। यह वही शख्स है, जिसने 2019 में घर का सामान बेचकर लोकसभा चुनाव लड़ा था। दरअसल, कोरोना संक्रमण के चलते पंजाब में पहले कर्फ्यू की स्थिति रही, फिर यह लॉकडाउन में तब्दील हो चुका है। इस दौरान स्कूलों द्वारा फीस के लिए दबाव नहीं बनाए जाने का आदेश सरकार ने दे रखा है।
बुधवार को लुधियाना में प्राइवेट स्कूलों की ओर से फीस मांगे जाने को लेकर अब नेता प्रकाश जैन उर्फ टीटू बानिया ने भी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। सुबह 11 बजे से वह धरने पर बैठ गए जो दोपहर तक जारी रहा। इस दौरान टीटू बानिया ने मिनी सचिवालय परिसर में अपना मुंडन कराया। टीटू ने कहा कि कोविड-19 के दौर में जहां हर किसी वर्ग को नुकसान हुआ है, वहीं मध्यम और गरीब वर्ग इसकी चपेट में अधिक आया है। बावजूद इसके भी प्राइवेट स्कूल और अन्य शैक्षणिक संस्थाएं भी अभिभावकों से फीस मांग परेशान कर रहे हैं।
उन्होंने आरोप लगाया कि ऐसा पहली बार नहीं हो रहा, हर बार की तरह प्रशासन की मिलीभगत से स्कूल-कॉलेज और अन्य शैक्षणिक संस्थाएं लूट-खसोट से बाज नहीं आते। हमेशा की तरह इस बार भी उन्होंने अपना मोर्चा खोल दिया है। इस दिन मुंडन करवा सरकार और प्रशासन के रवैये के प्रति रोष जाहिर किया और मांग की कि स्कूल-कॉलेजों की ओर से यह लूट-खसोट बंद की जाए। जो स्कूल अभिभावकों को बताई गई दुकानें से किताबें, ड्रेसिस खरीदने, दाखिला फीस जमा करवाने के लिए दबाव बना रहे हैं तो आने वाले समय में उन स्कूलों के खिलाफ वह संघर्ष और तेज करेंगे।
वहीं ऑनलाइन पढ़ाई कराने वाले प्राइवेट स्कूलों को बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ करना बताया। टीटू बानिया ने एक-दो स्कूलों जिन्होंने फीसें माफ की है, उनका आभार भी जताया, वहीं प्रशासन और सरकार को उक्त बातों संबंधी अभिभावकों को राहत देने की भी बात कही।

Source BHASKAR

%d bloggers like this: