Advertisements

मूनक नाके पर एएसआई ने माल की गाड़ी घंटों रोकी, जांच के बाद सस्पेंड

  • एसडीआईसी ने उद्योगपतियों के साथ बैठक कर सुनी समस्याएं

दैनिक भास्कर

May 22, 2020, 08:42 AM IST

संगरूर. कोरोनावायरस, कर्फ्यू-लॉकडाउन और हजारों श्रमिकों के पलायन के बीच जिले में औद्योगिक गतिविधियां बमुश्किल शुरू हो पाई हैं। इसके बावजूद इंडस्ट्री के दरपेश समस्याओं को दूर करने के प्रयासों के अंतर्गत कार्रवाई की गाज पंजाब पुलिस के एक एएसआई पर गिरी है। लखबीर सिंह नाम के कर्मचारी को सस्पेंड कर दिया गया है। उद्योगपतियों ने एसएसपी डॉ. सदीप गर्ग को बताया कि माल की सप्लाई करने संगरूर से जाखल जा रही एक गाड़ी को दिन में मूनक नाके पर रोक लिया गया। यह घटना लॉकडाउन 4.0 लागू होने के बाद की है, जिसमें सरकार ने काफी राहतें घोषित कर दी थीं।

ड्राइवर से कर्फ्यू पास मांगा गया, जबकि पास की अनिवार्यता समाप्त कर दी गई थी। इसके बावजूद नाके पर तैनात एएसआई ने कथित तौर पर नाजायज तरीके से कई घंटे तक रोके रखा। वीरवार को उद्यमियों के साथ ऑनलाइन बैठक में एसएसपी डॉ. संदीप गर्ग ने खुलासा किया कि मामले की जांच करने के बाद एएसआई लखवीर सिंह को सस्पेंड कर दिया गया है। उद्योगपतियों की समस्याओं को लेकर संगरूर डिस्ट्रिक्ट इंडस्ट्री चैंबर (एसडीआईसी) ने जिला प्रधान घनश्याम कांसल व चेयरमैन डॉ. एआर शर्मा की अगुआई में उद्योगपतियों के साथ ऑनलाइन बैठक की। इसमें एसएसपी डॉ. संदीप गर्ग ने भी भाग लिया। इस दौरान उद्योगपतियों ने उनके समक्ष समस्याएं रखीं।

उन्होंने बाहरी राज्यों से श्रमिकों को वापस लाने के लिए पुलिस प्रशासन की मदद मांगी। ऐसे में एसएसपी ने सहयोग देने का आश्वासन दिया। बैठक में जिला महासचिव संजीव चोपडा, वित्त सचिव एमपी सिंह, वीपी सिंह, सजीव सूद, लक्की गोयल, संजीव गोयल, स्वर्णजीत सिंह, सुनील गोयल, रणधीर हुंजन, भारत भूषण गर्ग, वितेश गर्ग, अमन जख्मी, कर्मवीर सिंगला, दीपक जिंदल, बलविंदर जिंदल, विनू सिंगला, विजयमोहन सिंगला ने भाग लिया।

माल वाहनों को दिक्कत नहीं आने दी जाएगी : एसएसपी डॉ. सदीप गर्ग

एसएसपी डॉ. संदीप गर्ग ने उद्योगपतियों को आश्वासन दिलाया कि बाहरी राज्यों से लेबर वापस लाने में किसी तरह की परेशानी नहीं आने दी जाएगी। वाहनों में सवारियों के बैठने की क्षमता के मुकाबले आधी सवारियां बिठाकर लाई जाएं। वाहनों के लॉकडाउन पास एसएसपी व डीसी कार्यालयों में बनाए जाएंगे। लेबर से इंडस्ट्री परिसर में काम लिया जाए और उन्हें आम लोगों के बीच जाने से बचाया जाए। माल ढुलाई वाले वाहनों को भी दिक्कत नहीं आने दी जाएगी।

श्रमिकों के लौटते ही 14 दिन एकांतवास के लिए कहा जाता है : शर्मा

ऑनलाइन बैठक में जिला प्रधान घनश्याम कांसल ने कहा कि उद्योगपतियों पर कोरोनावायरस का संकट दो माह से मंडरा रहा है। औद्योगिक गतिविधियां ठप हैं। उद्यमी पुलिस व प्रशासन के सहयोग से इंडस्ट्री को दोबारा पटरी पर लाने का प्रयास कर रहे हैं। इंडस्ट्री को सरकार व प्रशासन के पूर्ण सहयोग की जरूरत है। प्रशासनिक सहयोग से ही जिले  में करीब 90 प्रतिशत इंडस्ट्री चल पडी है, परंतु परेशानियां अभी आ रही हैं, जिनका समाधान करना जरूरी है। चेरयमैन डॉ. शर्मा के अनुसार, इंडस्ट्री के वाहनों के ड्राइवरों का बाहरी राज्यों में आना-जाना लगातार बना रहता है। जब भी ड्राइवर जिले में वापस लौटते हैं तो उन्हें 14 दिन एकांतवास में रहने को कहा जाता है। ऐसे में उद्योग प्रभावित हो रहे हैं। इसका समाधान निकाला जाए।

Source BHASKAR