Advertisements

महाराष्ट्र MLC चुनाव: उद्धव ठाकरे के पास है इतने करोड़ की संपत्ति, चुनावी हलफनामे में खुलासा

मुंबई: महाराष्ट्र विधान परिषद (Maharashtra MLC Elections 2020) की कुल 9 सीटों के लिए 21 मई को चुनाव होना है. सीएम उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने सोमवार को नामांकन दाखिल किया. इस चुनाव में ठाकरे का निर्विरोध एमएलसी चुना जान लगभग तय है. ठाकरे के चुनावी हलफनामे खुलासा हुआ है कि वो मुंबई शहर में बिना कार के करोड़पति हैं. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और उनकी पत्नी के पास कुल करीब 143 करोड़ रुपए की चल और अचल संपत्ति है. सीएम ठाकरे कुल दो बंगलों के मालिक हैं लेकिन उनके पास एक भी वाहन, कार नहीं है.  उनके खिलाफ कुल 23 आपराधिक मामले दर्ज हैं. 

ठाकरे के पास 24 करोड़ 14 लाख 99 हजार 593 करोड़ की चल संपत्ति और 52 करोड़ 44 लाख 57 हजार 948 रुपये की अचल संपत्ति है. पत्नी रश्मि ठाकरे के पास 65.9 करोड़ रुपए की चल और अचल संपत्ति है. इसके अलावा बड़े बेटे आदित्य ठाकरे, छोटे बेटे तेजस ठाकरे और परिवार के अन्य सदस्यों के पास 1.58 करोड़ की अतिरिक्त चल संपत्ति है. मुख्यमंत्री ठाकरे पर 4.6 करोड़ रुपए और उनकी पत्नी रश्मि ठाकरे पर 11.44 करोड़ रुपए का लोन भी है. 

रश्मि ठाकरे के पास 1.35 करोड़ रुपये की ज्वैलरी
उद्धव ने 21.68 करोड़ रुपये बॉन्ड में निवेश किया है और 1.60 करोड़ रुपये लकी बैंक में फिक्स डिपॉजिट में रखे हैं. 3 लाख रुपये की पोस्टल सेविंग और 23 लाख 20 हजार रुपए की ज्वैलरी है. पत्नी रश्मि ठाकरे के पास 1.35 करोड़ रुपये की ज्वैलरी है. इसके अलावा, बैंक में 34.86 लाख रुपए की एफडी है. सीएम ठाकरे की पत्नी रश्मि ठाकरे ने बॉन्ड में कुल 33.79 करोड़ रुपये का निवेश किए हैं. 

रायगढ़ जिले में उद्धव ठाकरे के नाम पर 5 करोड़ की जमीन है जबकि महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले के खालापुर में पांच कृषि जमीन है, जिसका वर्तमान बाजार मूल्य 5.6 करोड़ रुपये बताया गया है. अहमदनगर जिले में 13.64 करोड़ रुपये की गैर-खेती वाली जमीन है. बांद्रा में दो रेजीडेंसी बिल्डिंग है. उसमें मातोश्री 4410 स्क्वायर फुट में है. मातोश्री बंगले की मौजूदा बाजार कीमत 14.44 करोड़ रुपए दिखाई गई है.  

मुंबई पश्चिमी उपनगर के बांद्रा में ही 13235 स्कवायर फुट के दूसरे बंगले की मौजूदा बाजार मूल्य 19.29 करोड़ रुपए बताया गया है. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के खिलाफ कुल 23 अपराधिक मामले दर्ज हैं. इनमें से 12 मामलों की जांच के बाद उनका नाम हटाया जा चुका है. सीएम ठाकरे पर ज्यादातर मामले शिवसेना मुखपत्र सामना में लिखे विवादित लेखों और खबरों से जुड़े हैं. ठाकरे बिना कानूनी इजाजत के मोर्चा निकालने, भड़काऊ भाषण और चेक बाउंस तक के मामले में आरोपी हैं. 

ये भी देखें:

 


Source link