फाइनांस कंपनी व बैंकों की किश्त वसूली से निजात दिलाने की मांग

  • राहत दिलाने की मांग करते हुए डीसी को ज्ञापन सौंपा

दैनिक भास्कर

May 29, 2020, 07:30 AM IST

बठिंडा. मजदूर मुक्ति मोर्चा ने प्राइवेट फाइनांस कंपनी व बैंकों द्वारा किश्तों की वसूली करने के लिए ग्रामीण व शहरी अनुसूचित जाति के लोगों को परेशान करने का मसला वीरवार को जिला प्रशासन के सम्मुख उठाया और इन्हें राहत दिलाने की मांग करते हुए डीसी को ज्ञापन सौंपा।

कामरेड प्रितपाल सिंह जसवंत सिंह, छिंदर कौर, गुरमेल सिंह, गुरबचन सिंह ने कहा कि जिस प्रकार से देश के अमीरों को सरकार ने 68 हजार करोड़ पर की कर्ज माफी दी गई है, उसी तर्ज पर ग्रामीण व शहरी बेजमीन गरीबों का कर्ज माफ किया जाए, कर्ज में फंसी गरीब महिलाओं से प्राइवेट फाइनेंस कंपनी व बैंकों द्वारा की जा रही वसूली पर रोक लगाई जाए, किसानों की तरह हर मजदूर परिवार को रोजगार चलाने के लिए 1 लाख रुपये की लिमिट बनाकर सरकारी बैंक से कर्ज दिलाया जाए, लॉकडाउन के दौरान मजदूर परिवारों के हुए आर्थिक नुकसान को दूर करने के लिए राज्य सरकार मजदूरों को 10 हजार प्रति परिवार मुआवजा दे, सभी गरीबों के 6 महीनों के बिजली बिल माफ किए जाएं, प्राइवेट स्कूलों में पढ़ रहे गरीब व मध्यम वर्गीय परिवारों के बच्चों की फीस को माफ किया जाए। उन्होंने कहा कि उनकी मांगें पूरा होने तक संघर्ष जारी रहेगा।

Source BHASKAR

%d bloggers like this: