नांदेड़ से श्रद्धालुओं काे लाने के लिए मुस्तैद रहे अब लॉकडाउन खुला तो काम छीन रहा विभाग

  • पीआरटीसी के आउटसोर्स कर्मियों से टिकट मशीनें वापस लेने का विरोध

दैनिक भास्कर

Jun 02, 2020, 07:31 AM IST

संगरूर. पीआरटीसी के आउटसोर्स कर्मचारियों को ड्यूटी पर नहीं बुलाए जाने से विभिन्न कर्मचारी संगठनों में रोष पाया जा रहा है। ऐसे में गुुस्साए कर्मचारियों और संगठन सदस्यों की ओर से सोमवार को विभाग के विरूद्ध रोष प्रकट किया।

आरोप है कि विभाग की ओर से आउटसोर्स कर्मचारियों से टिकट मशीनें तक वापस ली जा रहीं है। संगठनों का आरोप है कि विभाग आउटसोर्स कर्मचारियों को निकालने की योजना तैयार कर चुका है, जिसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

सीटू नेता इंद्रपाल पूनावाल, कर्मचारी दल के प्रधान परमजीत सिंह, एटक प्रधान हाकम सिंह चीमा, इंटक प्रधान जसपाल सिंह व एससी-बीसी यूनियन प्रधान बलदेव सिंह ने कहा कि पीआरटीसी विभाग में पंजाब भर से 12-13 वर्षों से सैकडों आउटसोर्स कर्मचारी काम कर रहे हैं।

लॉकडाउन के दौरान भी कर्मचारी अपनी ड्यूटी निभाते रहे हैं। श्री हजूर से श्रद्धालुओं को लेने के लिए भी इन कर्मचारियों की ही ड्यूटी लगाई गई थी। परंतु अब जब लॉकडाउन खुलने की स्थिति में आ रहा है तो मैनेजमेंट की ओर से बाहरी संस्थाओं से लिए गए वर्करों को ड्यूटी पर नहीं भेजा गया है।

वर्करों से टिकट मशीनें वापस करने के आदेश दे दिए गए हैं। इससे साफ जाहिर हो रहा है कि मैनेजमैंट ने आउटसोर्स वर्करों को बाहर करने की योजना तैयार कर ली है। इस कारण वर्करों में डर का माहौल है।

यदि मैनेजमेंट कोई लिखित फैसला लेती है तो इसे किसी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। कर्मचारियों की नौकरी बचाने के लिए पीआरटीसी के सभी संगठन एक मंच पर संघर्ष शुरू करेंगे।

किसी भी कर्मचारी का कोई नुकसान नहीं होने दिया जाएगा। मौके पर गुरबख्श सिंह, मलकीत सिंह, हरभजन सिंह, गोबिंदर सिंह, नरदेव सिंह, गगनदीप सिंह, भूपिंदर सिंह, जसबीर सिंह, गुरजंट सिंह दुगां आदि उपस्थित थे।

यूनियन का दावा है कि पंजाब भर के 9 डिपाे में 1000 से अधिक और संगरूर में करीब 272 आउटसोर्स कर्मचारी ड्राइवर व कंडक्टर की ड्यूटी पर तैनात हैं। जिन्हें विभाग की ओर से 9200 रुपए वेतन दिया जाता है।   

Source BHASKAR

%d bloggers like this: