दुकानों में मिल रहे महंगे बीज से किसान परेशान

  • धान की पनीरी को लगा ‘झंडा रोग’, किसान दोबारा बिजाई को मजबूर

दैनिक भास्कर

Jun 05, 2020, 05:00 AM IST

अजनाला. विश्व का अन्नदाता माने जाने वाले किसान फसलों की अच्छी पैदावार न होने और कई प्रकार की मुसीबतों के चलते कर्ज में डूबा है। वहीं, किसानों ने धान की पनीरी लगाने के लिए एग्रीकल्चरल विभाग से 1509 धान का बीज खरीदा था, जिस पर अब ‘झंडा रोग’ पड़ना शुरू हो गया है।

अब किसानों की शिकायत है कि घटिया किस्म के बीज की वजह से धान की फसल खराब हो रही है। गौर हो कि झंडा रोग के लक्षण बीज की रोपाई के 2-3 सप्ताह के बाद दिखाई देने लगते हैं।

इसमें रोगग्रस्त पौधा अन्य पौधों के मुकाबले अधिक लंबा होता है। इस रोग में धान के पौधों का विकास रुक जाता है और पौधा पीला होकर सूख जाता है, जिस कारण धान की फसल खराब हो जाती है। अगर किसान इस पनीरी को लगाएगा तो फसल खराब हो सकती है।

किसान सुखचैन सिंह और लखबीर सिंह ने कहा कि इस बार उन्होंने बीज बाजार से नहीं, बल्कि एग्रीकल्चरल विभाग से 1509 लिया है। इस रोग से परेशान किसान फसल उखाड़कर दोबारा बिजाई करने को विवश हैं। किसानों ने बताया कि मजबूरन दुकानदारों से महंगे दामों पर बीज खरीदकर पनीरी की बिजाई शुरू की है।

अगर विभाग से लिए बीजों से नुकसान हो रहा है तो कई किसानों का नुकसान होगा। बीज की जांच होनी चाहिए ताकि नुकसान से बचा जा सके। एग्रीकल्चरल विभाग के अधिकारी ने कहा कि वह इस संबंधी उच्च अिधकारियों से बात करेंगे और किसान विशेषज्ञ से सलाह लेकर दवा डाल सकते हैं।

Source BHASKAR

%d bloggers like this: