तेज बारिश से बत्ती गुल, 800 शिकायतें

  • फीडर में खराबी, शॉर्ट सर्किट और फ्यूज उड़ने से शहर के कई हिस्सों में करीब 2000 घरों की लाइट हुई बंद

दैनिक भास्कर

Jun 01, 2020, 08:50 AM IST

जालंधर. गर्मियों के कारण बिजली फॉल्ट वैसे ही काफी पड़ रहे हैं। रविवार को सुबह तेज बरसात के कारण शहर के काफी हिस्सों में लाइट बंद रही और फीडर भी। सारा दिन ही कर्मचारी फॉल्ट ठीक करने में लगे रहे। क्योंकि सुबह तेज बरसात के कारण काफी जगह पर शार्ट सर्किट होने से लाइट बंद हुई तो कहीं पर फ्यूज उड़ गए।

सुबह अलग-अलग डिवीजनों में 800 के करीब शिकायतें नोट की गई। कर्मचारियों की कमी के कारण ही फॉल्ट दूर करने में देरी हो रही है। बादशाहपुरा से चलते बीएम-1 फीडर में खराबी आने के कारण उसे 2 घंटे के लिए बंद करना पड़ा। इससे 2000 के करीब घरों की लाइट बंद रही। बादशाहपुर का फीडर बंद होने के कारण 150 से लेकर 200 के करीब शिकायतें उपभोक्ताओं ने दर्ज करवाईं।

एक फ्यूज को ठीक करने में लग गए 5 घंटे

मॉडल हाउस घास मंडी के पास ट्रांसफार्मर से फ्यूज उड़ गया, जिससे 30 के करीब घरों की लाइट बंद हो गई। इसको ठीक करने के लिए कर्मचारियों ने 5 घंटे का समय लगा दिया। उपभोक्ता शिकायत नंबर पर बार-बार फोन करके लाइट आने के बारे में पूछते रहे। लोगों ने कहा कि मॉडल हाउस घास मंडी चौक में ही ट्रांसफार्मर लगा हुआ है। रविवार सुबह तेज बरसात के कारण फ्यूज उड़ गया। कुछ दुकानदारों ने दुकानें खोल रखी, तभी ट्रांसफार्मर से अचानक आवाज आई। 

इन डिवीजनों में आई शिकायतें

पठानकोट चौक स्थित बिजली घर में 180, मकसूदां बिजली घर में 155, मॉडल टाउन बूटा पिंड बिजली घर में 200, बादशाहपुरा फीडर बंद होने से 200 और बड़िंग बिजली घर में 150 के करीब शिकायतें नोट की गई। जैसे ही बरसात रुकी तो दफ्तरों में बैठे कर्मचारी फॉल्ट दूर करने के लिए निकल पड़े। कर्मचारियों का कहना है कि अगर मैन पावर पूरी हो तो किसी भी हालत में फॉल्ट ठीक करने में देरी न हो। सीएचबी कर्मचारी दिए तो गए हैं, लेकिन उनसे फॉल्ट कम ही ठीक करवाए जाते हैं। उन्हें हेल्पर के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है। बरसात में सबसे ज्यादा रिस्क होता है फॉल्ट ठीक करने में, लेकिन उसके बावजूद सभी कर्मचारी लगे रहते हैं।

Source BHASKAR

%d bloggers like this: