जुलाई में एग्जाम और रिजल्ट, ऐसे होगी इंजीनियरिंग कॉलेजों में पढ़ाई

अब 30 प्रतिशत का इंटरनल असेस्मेंट और 70 प्रतिशत का होगा पेपर

राजस्थान टेक्निकल यूनिवर्सिटी (RTU) से संबद्ध इंजीनियरिंग कॉलेजों में स्टूडेंट्स के इंटरनल मार्क्स अब 30 प्रतिशत भेजे जाएंगे। इससे पहले 20 फीसदी इंटरनल मार्क्स और बाकी 80 परसेंट का पेपर आरटीयू की ओर से तैयार किया जाता था। आरटीयू के कुलपति प्रो. आर. ए. गुप्ता ने स्वामी केशवानंद इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी की ओर से आयोजित वेबिनार में कहा कि इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स में प्रेक्टिकल नॉलेज बढ़ाने के उद्देश्य से यह कदम उठाया गया है।

उन्होंने कहा कि इंटरनल मार्क्स में 10 प्रतिशत का इजाफा होने के बाद अब स्टूडेंट्स के लिए थ्योरी पार्ट 70 फीसदी का रह जाएगा। ऐसे में स्टूडेंट्स में प्रेक्टिकल नॉलेज बढ़ेगी साथ ही अब करिकुलम इंडस्ट्री की डिमांड के अनुरूप ही तैयार किया जा रहा है, जिससे स्टूडेंट्स कॉलेज से रेडी टू इंडस्ट्री होकर ही निकलेगा।

8वें सेमेस्टर के एग्जाम प्रायोरिटी
वेबिनार में टेक्निकल एजुकेशन एक्सपर्ट पुनीत शर्मा के साथ चर्चा में कुलपति गुप्ता ने बताया कि आठवें सेमेस्टर के एग्जाम प्राथमिकता है। कॉलेज खुलने के बाद छोटे-छोटे ग्रुप में स्टूडेंट्स बुलाकर स्टूडेंट्स के प्रेक्टिकल कराएंगे। साथ ही जुलाई के पहले सप्ताह में एग्जाम कराने की पूरी तैयारी है। साथ ही 15 दिन के भीतर रिजल्ट भी जारी कर दिया जाएगा। बाकी सेमेस्टर के एघ्जाम भी जुलाई की शुरूआत में ही कराने की प्लानिंग है, ताकि सेशन में देरी नहीं हो।

ऑनलाइन एजुकेशन में प्रयासों की जरूरत
‘ऑनलाइन – दी न्यू नॉर्मल ऑन एजुकेशन’ विषय पर आयोजित वेबिनार में मुख्य वक्ता के रूप में बोलते हुए AICTE के वाइस चेयरमेन एमपी पूनिया ने कहा कि आने वाला समय ऑनलाइन एजुकेशन का है, लेकिन इसके लिए काफी प्रयास करने होंगे। उन्होंने ऑनलाइन एजुकेशन पर चिंता जताते हुए कहा कि जहां ग्रामीण क्षेत्रों में 17 प्रतिशत लोग ई-लर्निंग के लिए सक्षम हैं, वहीं शहरी क्षेत्रों में 42 प्रतिशत लोग ही इस सुविधा का लाभ उठा पा रहे हैं।







Show More











Source

%d bloggers like this: