कल रात 11:15 बजे लगेगा वर्ष का दूसरा चंद्रग्रहण

दैनिक भास्कर

Jun 04, 2020, 08:46 AM IST

जालंधर. (हेमंत) 5 जून को लगने वाला साल को दूसरा चंद्रग्रहण ज्योतिष की नजर में बेहद खास है। यह चंद्रग्रहण जेष्ठ मास की पूर्णिमा तिथि पर आ रहा है जिसे उपच्छाया चंद्रग्रहण कहते हैं। 10 जनवरी को पहला चंद्रग्रहण लगा था। इसके अलावा 21 जून को सूर्य ग्रहण भी लगेगा।

ये दोनों ग्रहण भारत में दिखाई देंगे। 5 जून को लगने वाला चंद्र ग्रहण उपच्छाया के रूप में लगेगा, जिस कारण सामान्य चांद और ग्रहण मेें अंतर कर पाना मुश्किल होगा। ग्रहण के समय चंद्रमा के आकार में कोई परिवर्तन नहीं आएगा, बल्कि चांद कुछ धुंधला दिखाई देगा।

5 जून को रात 11.15 बजे से चंद्रग्रहण लगना शुरू होगा, जो अगले दिन 6 जून को मध्य रात के 2.34 बजे तक रहेगा। ज्योतिष में हर ग्रहण का अपना धार्मिक महत्व होता है। ग्रहण के पहले कुछ चीजें वर्जित है। बाल और नाखून काटने जैसे काम भी इस समयावधि में वर्जित रहेंगे। 
‘स्ट्राबेरी मून एक्लिप्स’ के नाम से भी जाना जाता है पेनुमब्रल चंद्रग्रहण

 आचार्य नरेंद्र वशिष्ठ, पं. विजय शास्त्री अौर पं. गौतम भार्गव ने बताया कि 3 प्रकार के चंद्रग्रहण होते है, जो कुल, आंशिक और पेनुमब्रल है। 5 जून को पेनुमब्रल चंद्रग्रहण होगा। पेनुमब्रल चंद्र ग्रहण में सूर्य, पृथ्वी और चंद्रमा पूरी तरह से संरेखित होते हैं। 5 और 6 जून को लगने वाले पेनुमब्रल चंद्रग्रहण को ‘स्ट्राबेरी मून एक्लिप्स’ के नाम से भी जाना जाता है। विद्वानों के अनुसार ग्रहण का सबसे ज्यादा असर गर्भवती महिलाओं पर रहेगा। क्योंकि ग्रहण के समय वातावरण में दूषित नकारात्मक ऊर्जा मौजूद होती है।

गर्भवती महिलाएं घर से बाहर न निकलें। ग्रहण के कारण जोड़ों और उंगलियों में दर्द हो सकता है। किसी भी ग्रहण के बाद भगवान की प्रतिमा को स्नान करना जरूरी होता है, जिसका घरों में भी पालन किया जाना चाहिए। श्मशानघाट के नजदीक से गुजरने से परहेज करें, जरूरतमंद को दान दें व पूजा पाठ करें।

नाखून व बाल काटने से परहेज करें। सूतक में बालक, वृद्ध व रोगियों को छोड़कर धार्मिकजनों को भोजनादि नहीं करना चाहिए। ग्रहण काल में विशेष फलदायी मंत्र ओम नमो: भगवते वासुदेवाय का जाप विशेष फलदायक होता है। वहीं, ग्रहण को देखने से आपकी आंखें खराब हो सकती हैं। 

Source BHASKAR

%d bloggers like this: