एसटीएफ की नाक के नीचे साइबर सेल और सीआईए मोहाली ने 18 करोड़ की हेरोइन पकड़ी

  • साइबर सेल की टिप पर सीआईए मोहाली ने महिला सहित 6 लोगों को पकड़ा
  • 1 किलो 300 ग्राम हेरोइन मोहाली से और 2 किलो 200 ग्राम हेरोइन दिल्ली से पकड़ी
  • आरोपियों की निशानदेही पर दिल्ली तिलक नगर नाइजीरियन को पकड़ने गई टीम पर हुआ हमला, सीआईए इंचार्ज सहित मुलाजिम जख्मी

दैनिक भास्कर

Jun 01, 2020, 05:56 PM IST

मोहाली. स्पेशल टास्क फोर्स फेस 4 मोहाली की नाक के नीचे डिस्ट्रिक्ट साइबर टीम कि टिप पर सीआईए मोहाली ने साढ़े 3 किलो  हेरोइन बरामद की है। अंतरराष्ट्रीय मार्केट में इस हेरोइन की कीमत करीब 18 करोड़ रुपए बताई जा रही है। इतनी बड़ी खेप के साथ पकड़े गए छह आरोपियों से मोहाली की जॉइट टीम ने इन आरोपियों से साढ़े 3 किलो हेरोइन के साथ एक लाख ड्रग मनी और गाड़ियां बरामद की हैं।

पकड़े गए सारे आरोपी इस समय पुलिस रिमांड पर सीआईए मोहाली के पास है। बता दें कि ऐसा पहली बार है जब मोहाली पुलिस ने हेरोइन की इतनी बड़ी खेप पकड़ी है। इसके पीछे पूरा श्रेय साइबर सिटी मोहाली को जाता है। एसपीडी हरमंदीप सिंह हंस ने बताया कि 27 मई को साइबर सेल मोहाली के पास जानकारी आई थी।

जानकारी देने वाले ने 2 गाड़ियों के नंबर बताए थे और कहा था कि काफी भारी मात्रा में हेरोइन की सप्लाई होने वाली है। जानकारी तुरंत एसएसपी से शेयर की गई। इसके बाद एसएसपी ने इस पूरे गैंग को पकड़ने के लिए साइबर टीम मोहाली और सीआईए मोहाली को जिम्मेवारी सौंपी। इस गैंग के बारे में 27 मई को ही सिटी खरड़ पुलिस स्टेशन में अज्ञात लोगों के खिलाफ एनडीपीएस का केस दर्ज कर लिया गया था।

सीआईए की अलग-अलग टीम में दोनों गाड़ियों के नंबर की तलाश में जुटी थी। इसी दौरान 28 तारीख को केएफसी के पास पुलिस ने नाके से महिला सहित चार लोगों को अरेस्ट कर लिया गया। पहले से ही दर्ज एफआईआर में सभी आरोपियों को नामजद कर दिया गया। पूछताछ के दौरान आरोपियों ने न्यू दिल्ली तिलक नगर में रहने वाले डेबिट नाम के नाइजीरियन के बारे में खुलासा किया। साथ ही ये भी बताया कि यदि डेबिट पकड़ा जाता है तो उसके पास से करोड़ों की हेरोइन बरामद हो जाएगी।

आज एसएसपी ऑफिस में एक प्रेस कांफ्रेंस आयोजित की गई। जिसमें एसपीडी हरमनदीप सिंह हंस, डिस्ट्रिक्ट साइबर सेल टीम इंचार्ज डीएसपी रुपिंदर कौर सोही, डीएसपी खरड़ पाल सिंह और सी इंचार्ज राजेश धीमान मौजूद थे। एसपी ने बताया कि 31 मई की रात को जब सीआईए की टीम न्यू दिल्ली में नाइजीरियन डेविड को पकड़ने पहुंची तो आरोपी ने पुलिस पार्टी पर पथराव कर दिया इसमें सीआईए इंचार्ज राजेश धीमान और एक कॉन्स्टेबल के चोट लगी। नाइजीरियन अपने और साथियों को बुलाने ही लगा था उससे पहले ही घायल इंचार्ज राजेश धीमान की टीम ने उसे पकड़ लिया। टीम ने जब आरोपी के कमरे की तलाशी ली तो वहां से 2 किलो 200 ग्राम हेरोइन और बरामद हुई जिसे पुलिस ने कब्जे में ले लिया।

महिला को ले जाने की आड़ में लेकर आते थे हेरोइन

एसपीडी हरमनदीप सिंह हंस ने बताया कि पकड़ी गई महिला नीलू का इस्तेमाल हेरोइन की खेप को मोहाली और चंडीगढ़ लाने के लिए किया जाता था। इस गैंग के मास्टरमाइंड दलविंदर सिंह आरोपी नीलू को अपने साथ रखता था और सिरसा में यह एक ही मकान में रहते थे। आरोपी नीलू शादीशुदा है। लेकिन वह हेरोइन सप्लाई के धंधे में जुड़ गई थी। आरोपी दलविंदर और अंजना सोढ़ी नीलू को साथ लेकर नाइजीरियन डेबिट से हीरोइन लेकर आते थे  और मोहाली व चंडीगढ़ में अपने साथी रवि वर्मा और परवार सिंह को  आगे सप्लाई के लिए दे देते थे । लॉकडाउन खुलते ही आरोपी सबसे पहले डेविड से अपनी फंसी हुई हेरोइन की खेप लेकर मोहाली पहुंचे थे। उससे पहले ही मोहाली पुलिस की ज्वाइंट टीम के हत्थे चढ़ गए।

आरोपी दलविंदर पर पहले भी दर्ज है एनडीपीएस के केस

डीएसपी साइबर सेल रुपिंदर दीप कौर ने बताया कि इस गैंग के मास्टरमाइंड दलविंदर सिंह पिछले 4 सालों से हेरोइन सप्लाई काम कर रहा था। उसके खिलाफ पहले भी सिरसा में एनडीपीएस और धोखाधड़ी के केस दर्ज हैं।अन्य आरोपियों की बैकग्राउंड का पुलिस पता लगा रही है। साथ ही आरोपियों ने कहां का संपत्ति बना रखी है उसका रिकॉर्ड भी खंगाला जा रहा है। डीएसपी ने बताया कि जल्द अन्य बातों का भी खुलासा हो जाएगा।

चर्चा ये कि इतनी बड़ी खेप को स्पेशल टास्क फोर्स कैसे नहीं पकड़ पाई?

पुलिस डिपार्टमेंट में इस बात की चर्चा है कि इतनी बड़ी खेप को स्पेशल टास्क फोर्स कैसे नहीं पकड़ पाई।सूत्रों की मानें तो स्पेशल टास्क फोर्स जवानों में चर्चा थी की इस गैंग के बारे में एसटीएफ को पता था और वह इनके पीछे लगे हुए थे लेकिन उससे पहले ही डिस्ट्रिक्ट साइबर सेल मोहाली को जानकारी मिल गई और जॉइन टीम बनाकर इन्हें पकड़ लिया गया। 

आरोपियों में ये शामिल

में सिरसा की रहने वाली एक महिला भी शामिल है। आरोपियों की पहचान अंजना सोढ़ी निवासी सिरसा, परिवार सिंह पुत्र चरणजीत सिंह निवासी बल्लू माजरा मोहाली, रवि वर्मा पुत्र बलदेव राज सन्नी एंक्लेव सेक्टर 125 मोहाली, दलविंदर सिंह उर्फ बिट्टू पुत्र सुच्चा सिंह खेड़ा कला सरदूलगढ़ मानसा, नीलू पत्नी पवन कुमार भरत नगर गली सिरसा और नई दिल्ली तिलक नगर के नाइजीरियन डेविड के रूप में हुई है।

Source BHASKAR

%d bloggers like this: