एमबीबीएस कोर्स के शुल्क में वृद्धि करने के फैसले का आईएमए ने विरोध जताया

  • मानवाधिकार कार्यकर्ता व आईएमए के स्थानीय सदस्य डाॅ. वितुल कुमार गुप्ता ने एमबीबीएस कोर्स के शुल्क में काफी वृद्धि करने के फैसले का जताया विरोध

दैनिक भास्कर

May 29, 2020, 07:41 AM IST

बठिंडा. मानवाधिकार कार्यकर्ता व आईएमए के स्थानीय सदस्य डाॅ. वितुल कुमार गुप्ता ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के नेतृत्व में गठित कमेटी की तरफ से निजी मेडिकल के साथ-साथ सरकारी तौर पर कालेजों में किए जाने वाले एमबीबीएस कोर्स के शुल्क में काफी वृद्धि करने के फैसले का विरोध जताया है। 

डाॅ. वितुल गुप्ता ने कहा कि यह पंजाब प्राइवेट हेल्थ साइंसेज एजुकेशनल इंस्टीट्यूट के लिए बने रेग्युलेशन ऑफ एडमिशन, फिक्स फिक्सेशन एंड मेकिंग ऑफ रिजर्वेशन ऑफ रेगुलेशन एक्ट 2006 में रखे प्रावधानों व नियमों के विपरीत है। सभी निजी मेडिकल कॉलेज और विश्वविद्यालय अब छात्रों की खुलकर लूट करेंगे व सामान्य वर्ग के लोगों के लिए मेडिकल शिक्षा हासिल करना मुश्किल ही नहीं बल्कि असंभव हो जाएगा।

डाॅ. गुप्ता ने कहा कि कोविड महामारी ने स्वास्थ्य देखभाल में व्याप्त कमियों को पहले ही उजागर किया है और हर विशेषज्ञ ने सार्वजनिक स्वास्थ्य देखभाल को मजबूत करने के लिए अपनी राय दी है व सरकार को प्राइवेट क्षेत्र में सुधार लाने के लिए कहा है।

कोरोना जैसे संकट के दौरान सरकार को सलाह दी गई है कि वह शिक्षा में चिकित्सा शिक्षा में निवेश करने, शोध करने और उसे विकसित करने की तरफ ध्यान दे लेकिन इस बात का साथ में ध्यान रखा जाए कि कम लागत वाले वेंटिलेटर और कई अन्य उपकरणों के कई मॉडल विकसित करने के लिए मेडिकल छात्रों को उत्साहित किया जाए। 

डॉ. वितुल ने राज्य सरकार से अनुरोध किया है कि सरकारी और निजी दोनों मेडिकल कॉलेजों में शुल्क कम करने के प्रयास में चिकित्सा शिक्षा और स्वास्थ्य पर खर्च बढ़ाया जाए।

Source BHASKAR

%d bloggers like this: