आज से एक हफ्ते के लिए दिल्ली बॉर्डर सील, सिर्फ पास वालों को मिलेगी एंट्री

नई दिल्ली: देश भर में लॉकडाउन (Lockdown)  के पांचवे चरण में सरकार ने पाबंदियों को धीरे-धीरे हटाने का ऐलान किया था. लेकिन दिल्ली में लॉकडाउन  5 यानी अनलॉक 1 के दौरान कामकाजी लोगों की दिक्कतें बढ़ गईं. कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए दिल्ली सरकार ने बॉर्डर सील करने का ऐलान किया और आज से एक हफ्ते तक दिल्ली के बॉर्डर सील हो गए हैं. सिर्फ पास वालों को ही आने जाने की इजाजत मिलेगी.

इससे पहले गृह मंत्रालय की गाइडलाइंस में कहा गया था कि लॉकडाउन 5 में एक राज्य से दूसरे राज्य में जाने पर कोई रोक टोक नहीं रहेगी. 

अब दिल्ली सरकार की घोषणा के बाद बॉर्डर पूरी तरह से सील हैं. जिनके पास प्रशासन द्वारा जारी मूवमेंट पास होगा या जो जरूरी सेवा से जुड़े हैं, वही लोग बॉर्डर पार जा सकेंगे.

लेकिन ऐसे बॉर्डर सील करने से सबसे ज्यादा दिक्कतों का सामना कामकाजी लोगों को करना पड़ रहा है. क्योंकि, दिल्ली में ऑफिस खुलना शुरू हो गए हैं. सोमवार को दिल्ली-नोएडा, दिल्ली-गाजियाबाद, दिल्ली-गुरुग्राम बॉर्डर पर लंबा जाम लग गया.

दिल्ली के बॉर्डर्स को सील करने के आदेश के बाद दिल्ली – गाजियाबाद बॉर्डर पर भी बैरिकेडिंग कर दी गई है. पुलिसकर्मी एसेंशियल सर्विसेज से जुड़े हुए लोगों के अलावा किसी और को दिल्ली में एंट्री करने की इजाजत नहीं दे रहे हैं. सभी के पास और आई कार्ड चेक किए जा रहे हैं, उसके बाद ही बॉर्डर को क्रॉस करने की इजाजत दी जा रही है. हालांकि दिल्ली- गाजियाबाद बॉर्डर पर जाम की स्थिति नहीं है. यात्रा कर रहे ज्यादातर लोग भी पुलिस से सहयोग कर रहे हैं.जिन लोगों के पास वाला आई कार्ड या पास नहीं है, उनको रोककर पुलिस चालान भी कर रही है.

बता दें कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने सोमवार को घोषणा की थी कि शहर की सीमा एक हफ्ते तक और बंद रहेगी. हालांकि उन्होंने नाई की दुकानों और सैलून्स को खोलने की अनुमति दे दी है, जबकि स्पा शहर में बंद रहेंगे. मीडिया से बातचीत में केजरीवाल ने कहा कि लॉकडाउन का नया संस्करण शुरू हो रहा है और केंद्र ने अपने दिशा-निर्देश साझा किए हैं.

केजरीवाल ने कहा, “अगर हमने सीमाएं खोल दीं, तो देश भर से लोगों का आना शुरू हो जाएगा, क्योंकि दिल्ली में स्वास्थ्य सुविधाएं बेहतर हैं.” इस पर उन्होंने जनता से राय मांगी है.

केजरीवाल ने कहा, “सीमा को एक सप्ताह के लिए सील कर दिया जाएगा और केवल आवश्यक सेवाओं की अनुमति दी जाएगी. बाकी, यह जनता के सुझावों पर निर्भर करेगा.”

उन्होंने पूछा, “हम सरकारी अस्पतालों में मुफ्त में इलाज करा रहे हैं. जिस समय हम सीमा को खोलेंगे, यहां बिस्तर सीमित हो जाएंगे. हमें क्या करना चाहिए, क्या हमें सीमा खोलनी चाहिए?”

केजरीवाल ने कहा कि लोग शुक्रवार शाम के पांच बजे तक अपनी प्रतिक्रियाएं दे सकते हैं. इसके लिए तीन तरीके हैं – 1031 डायल करें और अपना संदेश रिकॉर्ड करें, 8800007722 पर व्हाट्सऐप करें या दिल्लीसीएम डॉट सजेशंस एट द रेट डॉट कॉम पर ईमेल करें.

ये भी देखें:

[source_ZEE NEWS]
%d bloggers like this: