अब राहुल गांधी को चाहिए चीन पर भी सबूत, क्या अपनी सेना पर भरोसा नहीं

नई दिल्ली: अब राहुल गांधी को चीन पर भी सबूत चाहिए. शायद राहुल को भारतीय सेना से ज्यादा चीन की काबिलियत पर भरोसा है. सरकार की तरफ से बार-बार कहे जाने के बाद भी कि अपनी संप्रभुता और अखंडता से एक इंच भी समझौता नहीं किया जाएगा. दो दिन पहले, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ZEE NEWS से भी कहा है कि मस्तक झुकने नहीं दिया जाएगा लेकिन लगता है राहुल को अपनी सरकार और सेना से ज्यादा चीनी सेना पर ज्यादा भरोसा है कि वो भारतीय सीमा में घुस आए हैं. भारत चीन सीमा-विवाद के दौरान राहुल ने सवाल पूछा है कि भारत को स्पष्ट करना चाहिए कि सरकार कन्फर्म करे कि चीनी सेना भारत में घुस आएं हैं क्या?  

चीन पर सबूत गैंग की वापसी!
विपक्ष के कई नेता चीन पर सबूत मांग रहे हैं. कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी के बयान पर भी गौर फरिमाइए. उन्होंने कहा, “मैं प्रधानमंत्री जी से जानना चाहता हूं देश नहीं झुकने दूंगा, कहां हैं वो आपका नारा और इस संदर्भ में निश्चित रूप से आप कदम उठा रहें होगें, पर आहत जनता को आप विश्वास में लीजिए, बताइए वास्तव में स्थिति क्या है? इस पर आपकी तरफ से चुप्पी कहीं न कहीं हमारी कमजोरी दर्शा रही है.”

समाजवादी पार्टी के नेता अनुराग भदौरिया ने बयान दिया, “चीन के राष्ट्रपति को बुलाकर यहां पर झूला झुलाया और उनसे गले मिले, कहते हैं हमारे बहुत अच्छे संबंध हैं हमारे दोस्त हो गए हैं, यहीं तो कहती थी सरकार. अब तो चीन आंख दिखा ही रहा है, नेपाल भी आंख दिखाने लगा, तो क्या हमारी विदेश नीति है? इसका मतलब सरकार हम मुद्दे पर विफल हुई हैं, विदेश नीति में विफल हुई है और देश को संभालने में विफल हुई है.” 

उधर, बीजेपी ने भी पलटवार किया है. बीजेपी नेता जगदंबिका पाल ने कहा, “राहुल को तो कुछ न कुछ सवाल खड़ा करना है जो वो खुद ही अपनी पार्टी में और लोगों के सामने किस तरह से मज़ाक बन जाता है और राहुल जी को अहसास नहीं है कि ये 62 का भारत नहीं है जो कांग्रेस के समय एक बहुत बड़े क्षेत्रफल पर उन्होंने कब्ज़ा कर लिया, एक इंच भी नहीं देंगे.” 

[source_ZEE NEWS]
%d bloggers like this: